बड़ा फैसला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- कोर्ट में वकील पेश हो या ना हो, फैसला देना होगा

बड़ा फैसला: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- कोर्ट में वकील पेश हो या ना हो, फैसला देना होगा

BREAKING देश

नई दिल्ली (LH): आपराधिक मामले में सजा के खिलाफ अपील दाखिल होने के बाद यदि अभियोजन और बचाव पक्ष के वकील पेश ना हों तो अपील खारिज ना करें, उसे मेरिट पर विचार करके फैसला दें। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से गरीब लोगों को राहत मिली है जिनके पास वकील की सेवाएं लेने के लिए संसाधन नहीं हैं। अब उनकी जेल से भेजी गई अपील याचिकाओं पर बिना वकील के भी  सुनवाई हो सकेगी।

इसे भी पढ़ें : जानिए कैसा रहेगा आज आपका दिन, पढ़िए 12 जुलाई का राशिफल

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला देते हुए सभी हाईकोर्ट को यह निर्देश दिया है। साथ ही मामले को इस निर्देश के साथ मद्रास हाईकोर्ट को वापस भेज दिया कि मसले को फिर से मेरिट पर सुना जाए।

जस्टिस आरएफ नरीमन की तीन जजों की पीठ ने इसके साथ ही अभियुक्त को जमानत भी दे दी जो 11 साल से जेल में था। कोर्ट ने कहा कि इस बारे में पहले से बनी सिंह केस में दिशानिर्देश जारी हैं। हाईकोर्ट अभियोजन पक्ष के वकील की अनुपस्थिति में अपील को मेरिट पर जांचे बिना निरस्त नहीं करेंगे। यदि दोनों पक्ष के वकील मौजूद नहीं हैं तो अपील कोर्ट केस को स्थगित करने के लिए बाध्य नहीं है।

इसे भी पढ़ें : MSME सेक्टर को मिली बड़ी राहत, सरकारी बैंकों ने बांटे हजारों करोड़ रुपये के लोन

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोर्ट मामले को गुण दोष के आधार पर सुनेगा और ट्रायल कोर्ट के फैसले को देखने के बाद मामले का निस्तारण करेगा। यदि अभियुक्त जेल में बंद है और उसका वकील पेश नहीं हो रहा है तो कोर्ट अभियुक्त को पेश होने के लिय मौका देगा और केस स्थगित करेगा। कोर्ट यह भी कर सकता है कि वकील के पेश नहीं होने पर राज्य के खर्च पर वकील भी नियुक्त कर सकता है।

इसे भी पढ़ें : दिल्ली की सभी विश्वविद्यालयों की परीक्षाएं रद्द, बिना Exam दी जाएगी डिग्री: मनीष सिसोदिया

हाईकोर्ट का सुनवाई से इनकार : मद्रास हाईकोर्ट ने यह कहकर अपील सुनने से इनकार कर दिया था कि आपराधिक मामले में अभियुक्त को बिना सुने फैसला नहीं किया जा सकता। हाईकोर्ट ने सकुर अली मामले का हवाला दिया था जिसमें सुप्रीम कोर्ट की दो जजों की पीठ ने कहा था कि अभियुक्त को बिना सुने फैसला नहीं दिया जा सकता। लेकिन पीठ ने कहा कि बनी सिंह केस बृहद पीठ का फैसला है और इसने सकुर अली में दी गई व्यवस्था को निरस्त कर दिया था।

इसे भी पढ़ें : सरकार ऑनलाइन क्लासेस के लिए ला सकती है नीति, जानिए सुनवाई के दौरान क्या कुछ हुआ

स्टूडेंट्स टाईम फॉर न्यूज़ पर सबसे पहले नतीजे चेक कर सकते हैं। दिए टाईम फॉर न्यूज़ लिंक पर क्लिक करें और मध्य प्रदेश बोर्ड 10वीं का रिजल्ट 2020 चेक करें।

 

इसे भी पढ़ें : चीनी निवेश की वजह से Paytm का भी हो सकता है बहिष्कार, Mobikwik के समर्थन में आए लोग  

———————————————————————————————————–

टाईम फॉर न्यूज़ देश की प्रतिष्ठित और भरोसेमंद न्यूज़ पोर्टल timefornews.in की हिंदी वेबसाइट है। टाईम फॉर न्यूज़.इन में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mynews.tfn@gmail.com पर भेज सकते हैं या 9811645848 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

टाईम फॉर न्यूज़ की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9811645848) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कांटेक्ट लिस्ट में सेव करें।

TIME FOR NEWS  पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूबफेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *